Featured

शराब की दुकानों से बहुत जल्द हट सकता है ताला !

दिल्ली में 3 मई के बाद से शराब की दुकानों में नहीं लगेगा ताला। बहुत जल्द दिल्ली सरकार शराब बिक्री को लेकर ले सकती है बड़ा फैसला। दरअसल सरकार को राजस्व का एक बड़ा हिस्सा शराब बिक्री से आता है। और दिल्ली में भी  राजस्व का एक बड़ा जरिया शराब बिक्री है। अन्य राज्यों के साथ दिल्ली में भी 3 मई के बाद शराब की दुकानों को कुछ शर्तों के साथ छुट मिल सकती है। दिल्ली सरकार शराब की दुकानें खोलने को लेकर नए सिरे से विचार कर रही है। इसका आधार केंद्रिय गृह मंत्रालय का जारी हुआ आदेश है। जिसकी शर्त के अनुसार रेड जोन घोषित जिले के कंटेनमेंट जोन को छोड़कर बाकी इलाके में छुट को लेकर राज्य सरकार निर्णय ले सकती है। आपको बता दें की दिल्ली के सभी जिलों को रेड़ जोन में रखा गया है। जैसा की पूरे देश भर में लॉकडाउन की अवधी दौ हफ्ते के लिए बढ़ा दिया गया है और अब देश में 17 मई तक लॉकडाउन रहेगा। पूरे देश को 3 जोन में बांट दिया गया है। रेड़, औरेंज और ग्रीन जोन। हालांकी दिल्ली के सभी जिलों को रेड़ जोन में रखा गया है। दिल्ली में अब तक कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 3738 हो गई है। और मौत का आकड़ा 61 हो गया है। इन आकड़ों को रोकने के लिए दिल्ली सरकार हर संभव प्रयास कर रही है।

देश में कोरोना का कहर जारी, एक दिन में 2644 नए मामले

तमाम कोशिशों के बावजूद देश में कोरोना का कहर जारी है। बीते दिन शनिवार को देश में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या दर्ज की गई। शनिवार को 2644 नए मामले सामने आऐ है और 100 लोगों ने कोरोना से दम तौड़ दिया है। दिल्ली में शनिवार को 384 नए कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए है, जो की राजधानी में अब तक की सबसे अधिक संख्या है। तो वहीं महाराष्ट्र में 790 नए मामले सामने आऐ है। गुजरात में 333, तमिलनाडु में 231, पंजाब में 187,उत्तर प्रदेश में 159, पश्चिम बंगाल में 127 नए मामले सामने आऐ है। अब तक देश में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 40000 के लगभग हो चूकी है, जिसमें से 10000 से ज्यादा लोग ठिक हो चुके है और मरने वालों की संख्या 1350 हो गई है। सरकार कोरोना की संख्या को रोकने का हर संभव प्रयास कर रही है।

महाशिवरात्रि जिसका न कोई आदी है न कोई अंत

क्यों मनाया जाता है शिवरात्रि ?

जैसा कि हम सभी जानते है भारत में प्रतिदिन कोई न कोई उत्सव मनाया जाता है। अगर हम महाशिवरात्रि की बात करें तो, महाशिवरात्रि हिंदुओं का सबसे प्रमुख व पवित्र त्यौहार है। देवों के देव महादेव के भक्त साल भर इस दिन की प्रतीक्षा करते है। बताया यह जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर जल, दूध, बेलपत्र, बेर और भांग चढ़ाने से भक्‍त की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और उसे महादेव की विशेष कृपा मिलती है। हालांकि हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी जे दिन शिवरात्रि आती है, लेकिन फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी कर दिन आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है। पुराणों के अनुसार महाशिवरात्रि का सर्वाधिक महत्‍व बताया गया है। हिन्‍दू मान्‍यताओं में साल में आने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है।

क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि???

पुराणों के अनुसार महाशिवरात्रि को मनाने के पीछे कई कारण है। जैसे कि पौराणिक मान्‍यता की बात करें तो महाशिवरात्रि के दिन ही शिव जी पहली बार प्रकट हुए थे। इसके पीछे मान्‍यता यह है कि शिव जी अग्नि ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हु थे, जिसका न आदि था और न ही अंत। कहते हैं कि इस शिवलिंग के बारे में जानने के लिए सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा ने हंस का रूप धारण किया था और उसके ऊपरी भाग तक जाने की कोशिश करने लगे, लेकिन उन्‍हें सफलता नहीं मिली थी। वहीं, सृष्टि के पालनहार विष्‍णु ने भी वराह रूप धारण कर उस शिवलिंग का आधार ढूंढना शुरू किया लेकिन वो भी असफल रहे। अन्‍य पौराणिक मान्‍यता के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन ही विभन्नि 64 जगहों पर शिवलिंग उत्‍पन्न हुए थे। हालांकि 64 में से केवल 12 ज्योतिर्लिंगों के बारे में अभी तक पता लग पाया है।

इसके अलावा सबसे खास मान्यता यह है कि इस दिन भगवान शिव शंकर और माता पार्वती का विवाह हुआ था। विवाह रात्रि के समय हुआ था। इसलिए इस पर्व में रात्रि का खास महत्व है। चूंकि महाशिवरात्रि शिव और शक्ति के मिलन के रूप में मनाया जाता है। इसलिए इस दिन भगवान शिव के साथ देवी पार्वती की पूजा करना भी आवश्यक होता है।

आसिम क्यों हो सकते है बिग बोस 13 के विनर

दोस्तों आपको बता दे कि bigg boss 13 का यह सीजन जितना ज्यादा टेढ़ा है उतना ही ज्यादा इसके विनर को लेके twist भी है। जहाँ बिग बॉस  फिनाले में 6 लोगों ने सिद्धार्थ शुक्ला, आसिम रियाज़, शहनाज गिल, रश्मि देसाई, पारस छाबरा और आरती ने  अपनी जगह बना ली है। ऐसे में बिग बॉस के फैंस अपने अपने फेवरिट कंटेस्टेंट को जिताने की हर एक कोसिस कर रहे है।

आइये आपको हम बताते है कि क्या खूबियां है आसिम रियाज़ में जो उसे बिग बॉस सीजन 13 के विनर बनाती है। आसिम का एटिट्यूड उसे इस सीजन के विनर बनने के लिए मदद करती है। वो जब भी घर के किसी कंटेस्टंट से बात करते है तो उनका बात करने का एटिट्यूड अलग होता है वो अपनी बात को तब तक बोलते रहते है जब तक उसकी बात पे कोई सहमत न हो जाये, जो कि शो के लिए बेहद जरूरी है। दूसरा असीम का अग्रेशन भी उसे शो के लिए मदद करता है। जैसा कि आप सबने देखा ही है आसिम और सिद्धार्थ के बीच जब लड़ाई होती है तो उनकी लड़ाई एक अलग लेवल पर चली जाती है। और दोनों का गुस्सा इतना ज्यादा हाई हो जाता है कि बिग्ग बॉस को भी बीच में बोलना पड़ता है। आसिम जब गुस्से में आते है तो वो उस टाइम किसी की नहीं सुनते। जिससे उनको ज्यादा देखा जाता है। और आसिम को उसके गुस्से के लिए भी जाना जाता है। तिसरा आसिम और रश्मि की दोस्ती। दोस्तों आपको बता दें कि बिग बॉस के घर में आसिम और रश्मि की दोस्ती को लोग ज्यादा पसंद कर रहे है। जिस तरह से वो दोनों एक दूसरे के साथ रहते है, एक दूसरे को डिफेंड भी करते है। जब रश्मि देसाई को लेके घर में कोई बात होती है तो उसमे आसिम अपना पॉइंट रखते है या फिर आसिम के लिए कोई बात होती है तो रश्मि भी पूरी मजबूती के साथ आसिम का साथ देती है।

asim riyaz

चौथा हर टास्क में अपना सहयोग देना। जैसा कि देखा गया है बिग बॉस 13 का अभी तक एक भी ऐसा टास्क नहीं है जो पूरा हुआ हो। हर टास्क को किसी न किसी कारणवस रद्द कर दिया जाता है। लेकिन आसिम हर टास्क में अपना 100% देते नजर आते है। जिसके लिए उन्हें कई बार चोट भी आई है। जैसे कि सांप सीढ़ी वाला टास्क हो या फिर अण्डे वाला टास्क। टास्क के दौरान आसिम सब कुछ भूल  कर बस टास्क को पूरा करने और जितने की कोशिश करते रहते है। एंटरटेनमेंट को लेकर आसिम ने शो को अपना 100% दिया है। आसिम घर के अंदर कोई न कोई एंटरटेनमेंट करते नजर आते है चाहे वो शेफाली जरीवाला के साथ अनबन हो या फिर सिद्धार्थ के साथ लड़ाई या हिमांशी के साथ उनका प्यार। यह सारी चीजें दर्शको को अब तक बहुत पसंद आई है। शायद यही वजह है जिसे लेकर आसिम को सोशल मीडिया पे इतना ज्यादा ट्रेंड किया जा रहा है। बहरहाल देखते है शो का विनर कौन होता है।

कोरोना वायरस

एक ऐसा वायरस जो बहुत तेजी से पूरे विश्व में फैलता जा रहा है, जिसके चपेट में आने से लोग अपनी जान तक गवा रहे है।

हाल ही में एक नऐ तरह के वायरस ने पूरे विश्व में तहलका मचा के रखा है, हाँ सही सुना आपने ये कोरोना वायरस ही है। एक ऐसा वायरस जो चीन के हूआन शहर से आया है। इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया। अभी तक इस वायरस ने कुछ ही दिनों में विश्व के हर देश में अपनी पहुंच बना चुका है। यह एक ऐसा संक्रमण रोग है जो बहुत तेजी से फेल रहा है,  और वायरस की चपेट में आने से लोग अपनी जान से हाथ धो रहें है। कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है।

डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं । अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है। इस वायरस का सीधा असर चीन की अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा क्योंकि कई देशों ने अपने नागरिकों को कोरोना प्रभावित वुहान नहीं जाने के लिए कहा है। कई देशों ने वुहान से आने वाले लोगों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है. रूस ने चीन के साथ अपने पूर्वी बॉर्डर को भी बंद कर दिया है। अभी न तो कोई इसके बारे में सही से जान पाया है और न ही इससे निपटने का एंटीडोड वैज्ञानिक तैयार कर पाए है।